सकारात्मक सोच पर शायरी | shayari on positive thinking

जीवन में सफलता पाने के लिए सकारात्मक सोच का होना बहुत जरुरी है। क्योकि सकारात्मक सोच हमें अपने जीवन में अच्छी बातों पर ध्यान केन्द्रित करने करने में मदद करती है। सकारात्मक सोच हमें अपने जीवन में एक नया नजरियाँ देती है।


हम अगर अपने अन्दर सकारात्मक सोच रखते है तो हमें अपने बुरे से बुरे समय में कई फायदे देती है जो हमें मनोवैज्ञानिक और शारीरिक रूप से मजबूत करती है।


इसलिए हम आपके लिए आज सकारात्मक सोच पर कुछ प्रेरणादायक सकारात्मक सोच पर शायरी (shayari on positive thinking) लाये है।


सकारात्मक सोच पर शायरी | shayari on positive thinking

सकारात्मक सोच पर शायरी (hindi shayari on positive thinking)

जीत और हार आपकी सोच पर निभर करती है।
ठान लो तो जीत है और मान लो तो हार है।

आपकी सोच को सच में बदलने में देर नहीं लगती है।
इसलिए सकारात्मक सोचने में देर ना करें।

एक अच्छी और सकारात्मक सोच ही तुम्हे बड़ा बन सकती है।

मेरे बारें में अपनी सोच बदलकर तो देख,
मुझसे भी बुरे लोग है तू घर से बहार निकल कर तो देख।

अपने मन को नकारात्मक विचारों से दूर रखकर ही,
आप सकारात्मक विचारों के चमत्कार देख सकते हो।

हमारा मन बहुत शक्तिशाली है।
इसमें आने वाले विचार ही हमारे जीवन को आकार देते है।
इसलिए जीवन में सकारात्मक सोच रखे।

अगर आप सुखी जीवन जीना चाहते हो तो,
उन लोगों से दूर राहों जिनके विचार नकारात्मक है।

इस दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं है,
जो हम सोच सकते है वो हम कर भी सकते है,
और हम वो सोच सकते है जो हमने पहले कभी नहीं सोचा।

कुछ लोग जीवन जीने का सकारात्मक द्रष्टिकोण रखते है,
इसलिए जीवन में खुश रहते है।

जीवन में सबसे बड़ी खुशी उस काम को करने में होती है।
जिसे लोग कहते है की "तुम यह नहीं कर सकते।"

जीवन में कभी हार मत मानो। आज दिन बुरा है,
कल और भी बुरा होगा पर परसों धुप जरूर खिलेगी।

नकरात्मक सोच वाले व्यक्ति को अवसर में भी कठिनाई नजर आती है,
लेकिन सकारात्मक सोच वाले व्यक्ति को कठिनाई में भी अवसर नजर आता है।

एक बार अगर आप अपनी नकारात्मक सोच को निकालकर,
सकारात्मक सोच अपना लोगे, तो सकारात्मक परिणाम भी आने शुरू हो जायेंगे।

बुरा वक्त रुलाता है,
मगर बहुत कुछ सीखा कर जाता है।

उजालो में मिल ही जायेगा कोई ना कोई,
तलाश उसकी करो जो अंधेरों में भी साथ दे।

एक पेड़ से लाखों माचिस की तीलियाँ बनती हैं,
लेकिन एक तीली लाखों पेड़ जला देती हैं।
इसी प्रकार एक नकारात्मक विचार या शक आपके हजारों सपनों को जला सकता हैं।

सकारात्मक सोच और सकारात्मक कार्य का परिणाम ही सफ़लता होता हैं।

सकारात्मक सोच और आत्मविश्वास के बिना किसी काम में सफल होने की कल्पना करना अपने आप को धोखा देने के समान हैं।

सफ़लता पाने के लिए सोच और कार्य में समानता रखनी चाहिए जो कुछ सोचे उसे निश्चित समय में जरूर पूरा करें।

जिस दिन आपने अपनी सोच बड़ी कर ली साहब
बड़े-बड़े लोग आपके बारे में सोचना शुरू करे देंगे।
एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने