अपनी बढ़ती उम्र के साथ ये 7 गलतियां कभी ना करे | 7 Success Formula in life in Hindi

हम हमारे जीवन में रोजाना कई गलतियां करते है। गलतियां करना गलत बात नहीं है। बल्कि अपनी गलतियों से सीख ना एक गलती है। और गलतियां करना हमारे विकास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

अपनी बढ़ती उम्र के साथ ये 7 गलतियां कभी ना करे | Success Formula in life in Hindi

अगर आप अपने जीवन में पीछे मुड़कर देखे ओर उसके बाद आप ये महसूस करो कि शायद मे अपना काम अलग तरीके से करता तो आज में सफल होता? परन्तु अब आपका समय गुजर चुका है। अब आप उस उत्साह, जोश, ओर ऊर्जा के साथ वैसा काम नहीं कर सकते है।

अगर आप समय के साथ अपनी गलतियों से सीखना शुरू कर दे तो आपको आपके काम के प्रति एक नई ऊर्जा मिलती है। जिससे आप अपने लक्ष्य को आसानी से पा सकते हो?

जैसे जैसे हम बड़े होते जाते है, वैसे वैसे हमारा जोश, उत्साह, ओर ऊर्जा कम होती जाती है।

जब हम बढ़ती उम्र के साथ पीछे मुड़कर देखते है तो हमें पता चलता है कि हमने अपने जीवन में क्या गलतियां कि ओर उन गलतियों से क्या सीखा? ओर उसके साथ ही हमने अपने जीवन में क्या हासिल किया है?

अपनी बढ़ती उम्र के साथ ये 7 गलतियां कभी ना करें? | Success Formula in life in Hindi



हम अपने स्कूल ओर कॉलेज से सब कुछ नहीं सिख सकते है?


आप सबकुछ स्कूल और कॉलेज से नहीं सीख सकते हो क्योंकि कि स्कूल ओर कॉलेज में ओपचारिक शिक्षा देने पर जोर दिया जाता है। अब कई लोग ये बात भी सोच रहे होंगे कि हमें स्कूल ओर कॉलेज में हम कई सारी skills सीख सकते है। जो हमारी long-term सफ़लता के लिए उपयोगी है।

कई Influencer और Entrepreneur जैसे विवेक बिद्रा, उज्ज्वल पाटनी, हिमेश मदान, और संदीप माहेश्वरी आदि शिक्षा कि ओपचारिकता पर महत्व देते है। लेकिन स्व-शिक्षा ही आपको आपका भाग्य बनाकर दे सकती है, ना कि स्कूल ओर कॉलेज का परिणाम। लेकिन इन्हें आपको समय रहते सीख लेना चाहिए।



लोग आपके बारे में क्या सोचते है?


आप क्या करना चाहते हो, इसमें लोगों की सलाह मायने नहीं रखती हैं। लेकिन हर बार आप जों प्रयास करते हो, वह पारम्परिक तरीको के अनुरूप नहीं हो सकता है।

सबसे पहले हमे ये समझना चाहिए कि हमारे लक्ष्य ओर आकांक्षाएं अद्वितीय है, जों हमारे लिए है। हमें लोगों की राय पर ध्यान केंद्रित नहीं करना चाहिए, बल्कि हमें अपनी खुद कि राय पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

स्वामी विवेकानंद कहते थे कि "तुम्हें कोई पढ़ा नहीं सकता, कोई आध्यात्मिक नहीं बना सकता। तुमको सब कुछ खुद अंदर से सीखना हैं। आत्मा से अच्छा कोई शिक्षक नही हैं।" इसलिए हमे जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए सबकुछ अपनी स्व इच्छा से ही सीखना होगा। और सफ़लता पाने कि ऊर्जा हमारे अंदर है।



जीवन हमेशा एक जैसा नहीं होता है?


जीवन हमेशा एक जैसा नहीं रहता है। इसमें उतार चढ़ाव आते रहते है। यहां पर अच्छी चीजे बुरे लोगों के साथ ओर बुरी चीजे अच्छे लोगों के साथ होती है। और कई बार आप भी शायद इसके शिकार हुए होंगे। लेकिन यह हमारे लिए ज्यादा महत्व नहीं रखता है। आपको अपने खुद के कामों के प्रति जिम्मेदार होना सीखना होगा।

हमें कभी भी लोगों को अपनी अच्छाई को प्रभावित नहीं करने देना चाहिए। कभी आप हारेंगे, कभी आप जीतेंगे। यह जीवन भर चलता रहेगा। हमें खुद के प्रती सही मानसिकता रखनी होगी।

जिससे आप अपने बुरे समय से मुकाबला कर सके ओर अपने जीवन में आगे बढ़ सके। और हमें ऐसा चरित्र बनाना चाहिए जो आपको ओर दूसरो को प्रभावित कर सके। इसलिए हमेशा अपने दिल को जीते।



आपके सीखने के दौरान, असफलताएं अच्छी है?


किसी को भी अपने जीवन में असफल होना अच्छा नहीं लगता है। लेकिन हर असफलता नई सीख देकर जाती है। जिससे आप दुबारा वो गलती करने से बच सकते हो। इसलिए जीवन में अपनी असफलता को स्वीकार करें। असफल होने के दौरान सीखते रहना आपको मानसिक रूप से मजबूत करता है। आपके विकास के लिए आपको प्रेरित करता है।

आप अपने बेहतर भविष्य के लिए आप अपने आप को बेहतर तरीके से तैयार कर सकते हो। आपको समय रहते इस बात को समझ लेना चाहिए कि असफलता आपके लिए दुर्भाग्यशाली नहीं है। वो आपको ओर बेहतर बनाने में मदद करती है। जो लोग कई बार असफल हुए है, वो लोग अपनी सफलता को संभालने के लिए तैयार रहते हैं। 



हमारे लिए पैसा ही सबकुछ नहीं है।


आप मे से कई लोग अभी युवावस्था मे होंगे, और इस समय हमारा पेसो के प्रति ज्यादा मोह या लगाव होता है। लेकिन पैसा ही सबकुछ नहीं होता है। पैसा आपके सपनों को साकार करने के लिए सिर्फ एक उपकरण है। इसलिए पेसो पर ध्यान केंद्रित करने की जगह आप लोगो को अपने जीवन मूल्यों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

सोचे कि आप लोगों को कैसे मदद कर सकते हैं? ओर सोचे की आप कैसे दूसरे लोगों के साथ मिलकर उनकी समस्या को हल कर सकते हो। इसलिए आपको हमेशा लोगो कोई समस्या पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।



अपने शरीर का ध्यान रखे।


आपका शरीर आपकी सफ़लता का साधन हैं। यदि आप अपने शरीर का सही तरीके से ध्यान रखोगे तो यह आपका भी ध्यान रखेगा। कई लोग जब युवावस्था मे होते है तो वे लोग ये समझ नहीं पाते हैं कि उनका शरीर किस तरह से उनकी सफ़लता को प्रभावित कर सकते हैं?

लेकिन आपको अपने आप पर विश्वास करना चाहिए कि आपका शरीर आपके लिए क्या कर सकता है? जैसे जैसे हम बड़े होते हैं तो हम कई गलत आदतों के शिकार हो जाते है।

इसलिए आपको समय के साथ अपनी गलत आदतों को दूर करना बहुत ज़रूरी है, ताकि हम अपनी इच्छा अनुसार अपनी सफ़लता को प्राप्त कर सकें। आपको हमेशा योगा, व्यायाम, मेडिटेशन करना चाहिए।

इससे आपका शरीर स्वस्थ्य रहेगा ओर आप अपने काम तथा शरीर के प्रति अच्छा महसूस करोगे। आपकी मानसिक क्षमता का विकास होगा और आपका तनाव कम होगा।



अपने एक लक्ष्य के साथ जीना सीखें।


जैसे जैसे हम उम्र के साथ बढ़ते हैं तो हमें अपनी ऊर्जा ओर समय का सही इस्तेमाल करना चाहिए। और जब हम छोटे होते है तो हमें अपने स्पष्ट लक्ष्य के बारे में पता नहीं होता है।

हम बदलते समय के साथ स्कूल जाते है, फिर नौकरी करते है, ओर उसके बाद शादी करना ओर बच्चे पैदा करना सब अपनी जगह सही है। लेकिन हमें उन चीजों के बारे में भी स्पष्ट दृष्टिकोण रखना चाहिए जिनकी हमे अपने जीवन में आवश्यकता है।

समय के साथ बहुत सारी चीजों के बारे में ना कहना ग़लत विचार नहीं है। जैसे जैसे हम बड़े होते है तो हमें यह पता चलता है कि हमें पैसा कमाना है ओर इस तरह से हम अपने आपको स्वतंत्र महसूस नहीं करते है।

हमें उन चीजों के बारे में सोचना चाहिए कि जो हमे खुश रख सकें। इसके लिए हमारे जीवन में लक्ष्य का होना बहुत ज़रूरी हैं। ओर उसके लिए आपके पास एक स्पष्ट योजना का होना भी बहुत जरूरी है।


यह जरूरी है कि आप गलतियां करे लेकिन उन गलतियों से सीख लेना भी बहुत जरूरी है। आपकी गलतियों को अपने आप पर हावी ना होने दें। आपको अपने कैरियर, व्यवसाय, ओर जीवन में बड़े कदम उठाने कि हिम्मत होनी चाहिए। तथा जों जरूरी है उसे करना भी चाहिए।

पीछे आपने जों गलतियां कि वह आपको अपने जीवन का एक सही दिशा निर्देश तय करने में मदद कर सकती है।

आप अपने जीवन में पीछे मुड़कर देखे तो आपको अपनी गलतियों का पछतावा नहीं होना चाहिए। समय के साथ अपने कैरियर को बनाना भी बहुत महत्त्वपूर्ण हैं। जिससे आप उन चीजों को महसूस करने में सक्षम होंगे जों आपके अतीत मे सही नहीं थी।

अपने भविष्य के लक्ष्यों को निर्धारित करने के लिए अपने इस अतीत कि सीख का उपयोग करें। एक सही जीवन जीने के लिए अपने आप पर विश्वास रखे।

कई लोग हजारों बार असफल होते है फिर भी सफ़ल होने के लिए बार बार कोशिश करते हैं। और वो सफल हो जाते है। आप सफल क्यों नहीं हो सकते है? अपने ऊपर आत्मविश्वास रखे आप भी सफल हो जायेंगे।

धन्यवाद।।
एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने