ख़ुद पर विश्वास रखे। | Improve Self Confidence in Hindi - MotivationHindi

हमेशा अपने आप पर विश्वास रखना चाहिए। आत्मविश्वास के बिना हम जीवन में सफल या सुखी नहीं हो सकते है। हीन भावना हमारी सफ़लता की राह में बाधा उत्पन्न करती हैं। आत्मविश्वास हमें इस बाधा को हटाने में मदद करता है। ओर सफ़लता या अपने लक्ष्य को पूरा करने में मदद करता है।

ख़ुद पर विश्वास रखे। | Improve Self Confidence in Hindi

आजकल इस भाग दौड़ भरी जिन्दगी में कई लोग हीन भावना का शिकार हो जाते है। लेकिन हमें इतना दुख उठाने की ज़रूरत नहीं है। अगर हम उचित समय पर उचित कदम उठाए तो, हम हर समस्या का समाधान कर सकते है। ओर हम अपने आप को रचनात्मक बना सकते है।

अगर हम सफल होना चाहते है, तो हमारे जीवन में असफलता भी बहुत आएगी। लेकिन हमें उन असफलता का भी डटकर मुकाबला करना होगा। तथा अपने आत्मविश्वास को बनाए रखना होगा।

हमें धीरे धीरे आत्मविश्वास को हासिल करना होगा। हमें जिंदगी के हर पहलू को सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ देखना होगा। यह इतना आसान नहीं है, पर निरंतर अभ्यास से इसे आसान बनाया जा सकता हैं। जब हमें खुद को शक्तियों पर विश्वास होने लगता है, तो हम सफ़लता को अपनी ओर आकर्षित कर सकते हैं।

हम अपने अंदर छुपी हीन भावनाओ को आत्मविश्वास से मिटा सकते है। ओर हम उन शक्तियों की खोज कर सकते है, जो हमे पर्याप्त आत्मविश्वास दिलाने में मदद करें।

हीन भावना हमारे व्यक्तित्व में शक्तिशाली अवरोध खड़ा कर सकती है। हीन भावना को ख़त्म करने के लिए हमारे अंदर आत्मविश्वास का होना बहुत महत्त्वपूर्ण है। इसलिए आप जिस भी धर्म को मानते हो उसमे अपनी प्रबल आस्था को विकसित करो। इससे आपको विनम्र, सशक्त, ओर यथार्थवादी आस्था मिलती है। ओर आप प्रबल आस्था और प्रार्थना से हासिल होती है।

अपने अंदर आत्मविश्वास की भावनाओं को बढ़ाने के लिए अपने दिमाग को सकारात्मक सुझाव देना बहुत असरदार साबित होता हैं। अगर आप के दिल और दिमाग़ में असुरक्षा ओर अयोग्यता के विचार प्रबलता से भरे हुए है तो यह आपकी चिंता को लंबे समय तक रख सकते है।

हमें अपने विचारों को सकारात्मक करना होगा। यदि आप अपने विचारो को सकारात्मक बना देते है, तो आपमें आत्मविश्वास अपने आप बढ़ने लगेगा। हमें अपने दिमाग को प्रशिक्षित करना होगा, ओर प्रशिक्षित करने के लिए विचारों का अनुशासन बहुत जरूरी है।

विश्वास की भावना हमारे दिमाग़ मे रहने वाले विचारों पर निर्भर करती है। यदि आप हार के बारे में सोचते हों, तो आपकी हार तय है। यदि आप अपने आत्मविश्वास के साथ सकारात्मक सोच रखेंगे या अपनाएंगे तो आप उस प्रकार की क्षमता हासिल कर लेंगे, जिससे आपकी मुश्किलें आसान होती जाएगी।

आपके अपने आत्मविश्वास को बढ़ाने के लिए ओर अपनी हीन भावना को दूर करने के लिए, यहां पर आपको कुछ बातें बताई जा रही है। जो आपके लिए उपयोगी साबित हो सकती है। जिससे आप अपने अंदर की शक्तियों को महसूस कर पायेंगे।

  1. आप अपने दिमाग में एक चीज़ बैठा दे की आप सफल हो सकते हैं, या आप सफल हो रहे हो। हमेशा अपने सपनों को या अपने लक्ष्य को स्पष्ट रखे। जिससे आपका दिमाग उसे पूरा करने का रास्ता ढूंढ लेगा। कभी भी अपने दिमाग में यह विचार ना आने दें कि आप असफल हो रहे हो। अपने अंदर की सच्चाई या शक्तियों पर शक ना करें। हमेशा उसे पुरा करने के बारे में सोचे जो आप करना चाहते हो।
  2. जब भी आपके दिमाग़ मे अपनी शक्तियों के बारे में नकारात्मक विचार आए तो उसे ख़त्म करने के लिए अपने दिमाग में सकारात्मक सोच ज़रूर लाये।
  3. अपनी कल्पना में मुश्किलों का निर्माण ना करें। कहने से तात्पर्य आप अपनी सोच मे मुश्किलो को बड़ा रूप ना दें। अपनी मुश्किलों को समाप्त करने से पहले उनको समझना या उसका विश्लेषण करना बहुत जरूरी है।
  4. दूसरे लोगों को देखकर उनके जैसा बनने या उनकी नकल करने कि कोशिश ना करें। आपकी तुलना मे कोई भी उतना प्रभावशाली या योग्य नहीं हो सकता जितना आप खुद है। कई ज्यादातर लोग ऊपर से आत्मविश्वास भरे दिखते हैं, लेकिन वो अंदर से उतने ही डरे हुए ओर शक्तिहीन महसूस करते है।
  5. किसी योग्य व्यक्ति से सलाह ले ताकि आप समझ सके, की आप जो कर रहें है, वह क्यों कर रहे हो। अपनी हीन भावना व आत्मशंका की शुरुआत को पहचाने, जो अक्सर बचपन से शुरू होती है। आत्मज्ञान से इसका इलाज संभव है।
  6. अपनी योग्यता का सच्चा अनुमान लगाएं, और फिर उसे थोड़ा ओर बढ़ाए। किसी चीज का अहंकार ना करें। और अपना आत्मसम्मान विकसित करें। और अपनी शक्तियों पर विश्वास करें।
  7. याद रखे, ईश्वर आपके साथ है, इसलिए आपको कोई नहीं हरा सकता है। विश्वास करें कि आपको उससे शक्ति प्राप्त हो रही है।
एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने