दिमाग को कंट्रोल कैसे करें? | How to control your mind in Hindi

how to control your mind in hindi

कई बार लोग कहते है हम बाहर से तो खुश नज़र आते है, पर हम अंदर से खुश नहीं हैं। क्योकि हमारा मन खुश नहीं है। मन में बहुत सी बेचैनी और अशांति है।

एक बात सच बताओगे क्या आप खुश हो क्या आपके मन में शांति और सुकुन है, मन में अगर अशांति और बेचैनी है बाहर की कोई चीज आपको खुशी नहीं दे सकती और अगर मन शांति और सुकुन है तो बाहर की बाते आपको दुखी नहीं कर सकती। एक बात आप समझ जाओ बाहर की बाते आपको सिर्फ अस्थाई खुशियां ही दे सकती है।

जब तक आपका मन खुश नहीं है तब तक आपको कुछ भी अच्छा नहीं लगेगा कई लोगो को लगता है अच्छा जीवनसाथी मिल जाये, अच्छा पैसा मिल जाये, अच्छी नौकरी मिल जाये, तो हम हम खुश हो जायेंगे, पर क्या जिनको ये सब मिल जाता है वो खुश है क्या?

जिनका जीवन साथी अच्छा है जो अच्छा कमाते है वो भी यही कहते है की मन खुश नहीं है बस इतना होता है कि धनवान व्यक्ति आराम से दुखी रहता है। दुख तो दुख है पिंजरा तो पिंजरा है फिर चाहे वो लोहे का हो या सोने का, जो इंसान अपने दुखो के पिंजरे में कैद हो जाता है।

उसे किसी बात से ख़ुशी नहीं मिलती, एक बात आप याद करलो खुशियाँ किसी इंसान या किसी चीज में नहीं होती है। आपको उस इंसान या उन बातो से कितना अच्छा लगता है ख़ुशी उसमे होती है।

सीधी सी बात समझ लो आप आपका मन तभी शांत और खुश रहता है, जब आप वो करते है जिसे करने से आपको ख़ुशी मिलती है। जब आपकी जिंदगी में वो होता है, जो आप चाहते हो, और अशांति और दुख इसका विपरीत है।

जब वो होता है जिसमे आपको ख़ुशी नहीं, तो आपका मन अशांत और दुखी हो जाता है। जब वो करना पड़ता है, जिसमे आपकी मर्जी नहीं है, तो आप सब कुछ करते हुए भी दुखी और परेशान रहते है।

अपने दिमाग को नियंत्रित करने की ये बाते याद रखे (How to control your mind tips in Hindi)


1. जिस काम से आपको खुशी मिलती है उसे करना कभी बंद न करें (Never stop doing the work that makes you happy)

सबसे पहली बात तो ये याद रखो आप वो काम करना कभी मत छोड़ना, जिसे करने से आपको ख़ुशी मिलती हो, लोगो की जिंदगी में जब जिम्मेदारियां आती है तो वो उन बातो को करना ही छोड़ देते हो, जो उन्हें सबसे ज्यादा ख़ुशी देती है।

उसकी वजह से सब कुछ होते हुए भी वो खुश नहीं रह पाते, तो चाहे जो भी चल रहा हो आपकी जिंदगी में जो चीज आपके दिल कोआपके मन, आत्मा को ख़ुशी देती हो उसे कभी मत छोड़ना। वो कुछ भी हो सकता है चाहे वो गेम्स खेलना हो, म्यूजिक हो, डांस हो, घूमना फिरना हो, चाहे वो कुछ भी हो।

जिन कामो को करके आप सारी टेंशन भुल जाते हो, उन्हें करना कभी मत छोड़ना हमेशा खुश रहना चाहते हो तो उन दरवाजों को कभी मत बंद करना, जहा से आपको ख़ुशी मिलती हो।

2. ज्यादा सोचना बंद करो (Stop Overthinking)

कई लोगो की आदत होती है छोटी छोटी बातो पे भी बहुत ज्यादा सोचने की, हर बात में नकारात्मक(negative) सोचने लग जाते है, कही ऐसा तो नहीं हो जायेगा कही वैसा तो नहीं हो जायेगा। ऐसे लोग हमेशा डर और चिंता से घिरे रहते है। बस करो इतना ज्यादा सोचना, ज्यादा सोच सोच के सर में दर्द होने वाला है कोई हल निकलने वाला नहीं है।

जब तक कुछ हुआ ही नहीं है तो उसके बारे में पहले से ही सोच सोच के क्यू अपनी जिंदगी ख़राब करते हो। अब कई लोग भविष्य का सोच सोच के पैसे सेव करते जायेंगे करते जायेंगे भले घर में सब परेशांन होते रहे और क्या फायदा ऐसे पेसो का जो आपका परिवार और आप उससे सुख ना ले सके ऐसा नहीं है की आप सेविंग ना करे पर जहा जरूरत है वहा उसका उपयोग भी करे।

कल जो होगा उसके चक्कर में अपना आज तो मत ख़राब करो अगर आप आज अच्छे से जियोगे तभी आपका कल भी अच्छा होगा क्योकि आपका कल आपके आज से ही जन्म लेगा, आप अपना आज ख़राब करके अपना कल कभी अच्छा नहीं बना सकते हो।

3. अपने आप पर विश्वास रखे (Believe in yourself)

पता है आपका मन इतना बेचैन क्यू रहता है क्योकि आपको खुद पे जरा सा भी विशवास नहीं है। लोग कहते तो है हा हमे खुद पे बहुत विशवास है पर जब परिस्थितियां सामने आती है तो उन्हें जरा सा भी विशवास नहीं होता है। हर चीज में नकारात्मक(negative) सोचते है, हर परेशानी की परिस्थिति उन्हें चिंता और बेचैनी में डाल देती है।

एक बात को आप अच्छे से समझ लो ये जिंदगी है यहा आपके जीवन में सुख दुख दोनों आएंगे, चाहे आपको अच्छा लगे या ना लगे पर दोनों से आपको सामना करना पड़ेगा। अब ये आपके ऊपर है की आप दुख और परेशानी आने पर बेचैन और परेशान हो जाते हो या बुद्धिमानी से उन्हें समझकर उनसे बाहर आते हो।

सब कुछ आपके हाथ में है की आप क्या चाहते है। अगर आपको खुद पे विशवास है तो आपको दुनिया की कोई भी ताकत नहीं हिला सकती है और अगर आप खुद से ही विशवास खो बैठेंगे तो जिंदगी की हर जंग हार जायेंगे।

4. हमेशा खुद पर काम करें (Always work on yourself)

आप हर दिन खुद को और बेहतर बनाये खुद को इतना मजबूत बना लो की रोज रोज के उतार चढ़ाव से दुख सुख आपके मन पर इतना असर ना डाले सके, इतना खुद को समझदार बनाये की बाहर की परिस्थितिया आपके मन पे असर डालना छोड़ दे आप हर परिस्थिति में सकारात्मक सोच सके और दुख की घडी में भी आपको खुश रहना आ जाये।

5. अपना समय धन और जिंदगी उन लोगो के साथ खर्च करे जिन्हे आप प्यार करते है (Spend your time, money and life with the people you love)

अपना समय धन और जिंदगी उन लोगो के साथ खर्च करे जिन्हे आप प्यार करते है या जो आपसे प्यार करते है, जिनके साथ आप खुश रहते है। क्युकी मनोविज्ञान(psychology) कहती है, जब आप अपना समय और धन उन लोगो पर खर्च करते है जिन्हे आप प्यार करते है तो उनकी ख़ुशी से आपको ख़ुशी मिलती है।

आपके परिवार की ख़ुशी आपके बच्चो की ख़ुशी आपका सारा तनाव(stress) खत्म कर देगी। आप उन लोगो से दुर रहे जिनके साथ रहने से आपको नकारात्मकता(negativity) आती हो, जिनके साथ रहने से आपका दिमाग ही ख़राब हो जाता हो या मन भारी भारी हो जाता हो आप कितने ही खुश क्यू ना हो ऐसे लोगो के संग में थोड़ी देर भी रहने से आपका मन अशांत हो जायेगा।

शांति और ख़ुशी कोई महंगी चीजे नहीं है बस आप उन्हें गलत दुकानों से खरीदने की कोशिश कर रहे है। आपकी ख़ुशी और शांति आपको अंदर ही है बस इसे अगर आप समझ जायेंगे तो आपका मन हमेशा खुश और शांत रहेगा।

6. किताबों को पढ़े (Reading Books)

जब हम खाली बेठे रहते है तो हमारे दिमाग में कई तरह के विचार आते है, तथा ये विचार हमें अन्दर ही अन्दर परेशान करते है। हमें अपने दिमाग को नियंत्रित (Control) करने के लिए हमें रोजाना आधा या एक घंटा किताबे जरुर पढ़नी चाहिए। कई सफल लोग रोजाना अपने दिन शुरूआत किताबे पढ़ने से करते है। जैसे- एलोन मस्क, बिल गेट्स, वारेन बफेट आदि।

जब हम किसी महान लेखक द्वारा लिखी गई किताबे पढ़ते है तो हमें अन्दर से आत्मविश्वास बढ़ता है। जब कोई लेखक किसी किताब को कई सालों की मेहनत से लिखता है, हम उस किताब के जरिये उसके सालों के अनुभव कुछ ही दिनों या हफ्तों में जान सकते है। अच्छी किताबों के अनुभव को जीवन में उतारने से हमारा दिमाग शांत व नियंत्रित रहता है।
एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने